भोलेनाथ को खुश करने के लिए युवक ने काट ली खुद की गर्दन, अब भगवान भरोसे जिंदगी, हालत नाजुक

ललितपुर। उत्तर प्रदेश के ललितपुर में अंधविश्वास का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहाँ एक युवक ने सावन के माह में भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए मंदिर में जाकर अपनी गर्दन पेड़ काटने वाली मशीन से काट ली। मामले की जानकारी मिलते ही परिजन वहां पहुंचे और आनन-फानन में गंभीर हालत में युवक को इलाज के लिए झांसी मेडिकल कॉलेज ले गए। बताया जा रहा है, उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। 

मिली जानकारी के मुताबिक, घायल व्यक्ति का नाम दीपक कुशवाहा है। वो मजदूरी करता है। स्वतंत्रता दिवस यानी 15 अगस्त की सुबह लगभग 4 बजे दीपक अपने इलाके के शिव मंदिर में गया। मंदिर में ही ‘जय भोलेनाथ’ का जाप करते हुए उसने पेड़ काटने वाली एक मशीन की से अपनी गर्दन काट ली। यह पूरा मामला रघुनाथपुरा गांव का है। यहां रहने वाले 30 वर्षीय दीपक कुशवाहा मजदूरी कर अपना और परिवार का भरण पोषण करता है।दीपक भगवान भोलेनाथ का भक्त है। वह काफी समय से भगवान भोलेनाथ की सुबह-शाम पूजा करता था। पिछले कुछ महीनों से वह कह रहा था कि अपनी गर्दन काटकर वह भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करेगा। 

Also Read - गदर 2 ने रचा इतिहास, हासिल किया सबसे बड़ा रिकॉर्ड, स्वतंत्रता दिवस पर की बंपर कमाई

दीपक के पिता ने जानकारी देते हुए बताया कि उन्होंने हमेशा उसे समझाया कि खुद की बलि देना पागलपन है, लेकिन बेटा बलि देने की जिद कर रहा था। मंगलवार को उसने अपनी जिद पूरी करने की कोशिश भी की। इस दौरान घूमने गए ग्रामीणों ने दीपक की आवाज सुनी और मंदिर में जाकर देखा, तो दीपक खून से लथपथ पड़ा हुआ था। फिलहाल घायल दीपक का इलाज झांसी के एक अस्पताल में चल रहा है। बड़े भाई ने बताया कि दीपक 8 दिन से घर पर ही था और एक काफी में भगवान का नाम लिखकर बलि देने की बात कर रहा था।

Also Read - इंदौर में तिरंगा यात्रा पर पेट्रोल बम से हमला, किया पथराव, CCTV में कैद हुई पूरी घटना

All Comments

No Comment Yet!!


Share Your Comment