April 13, 2024

139.91666666667 °C

RashtriyaEkta - 26-02-2024

'मोहन सरकार कर्ज के दलदल में शिवराज सरकार से भी तेज गति से जा रही', 27 फरवरी को फिर लेगी कर्ज!

भोपाल। मध्य प्रदेश की मोहन सरकार लगातार कर्ज ले रही है। अब सरकार रिजर्व बैंक के मुंबई कार्यालय के माध्यम से अपने गवर्मेंट स्टाक का विक्रय कर तीन हिस्सों में कुल पांच हजार करोड़ रुपए का कर्ज लेने जा रही है। सरकार दो हजार करोड़ का कर्ज 20 साल, फिर दो हजार करोड़ का कर्ज 21 साल और एक हजार करोड़ का कर्ज 22 साल के लिए लेगी। तीनों ही कर्ज पर साल में दो बार कूपन रेट पर ब्याज का भुगतान किया जाएगा। यह कर्ज सरकार 27 फरवरी को लेगी।

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ ने मौजूदा सरकार पर कर्ज लेने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि मोहन सरकार कर्ज के दलदल में शिवराज सरकार से भी तेज गति से जा रही है। कमलनाथ ने शनिवार को भोपाल में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "मोहन सरकार ने पिछले 10 महीनों में 25,000 करोड़ रुपये का कर्ज लिया है। यह शिवराज सरकार के 15 साल के शासनकाल में लिए गए कर्ज से भी ज्यादा है।"

कमलनाथ ने कहा, सरकार 5000 करोड रुपए का कर्ज ले रही है। इस तरह अपने करीब 2 महीने के कार्यकाल में ही नई सरकार ने 17500 करोड रुपए का कर्ज ले लिया है। पिछली सरकार पहले ही प्रदेश के ऊपर 3.50 लाख करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज छोड़ गई थी। उन्होंने कहा, "सरकार प्रदेश के लोगों पर बोझ बढ़ा रही है। पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ रही हैं। बिजली के बिल भी बढ़ रहे हैं।"

कमलनाथ ने कहा, "सरकार प्रदेश के विकास के लिए कुछ नहीं कर रही है। शिक्षा, स्वास्थ्य और कृषि जैसे क्षेत्रों में कोई काम नहीं हो रहा है।" सरकार को कर्ज लेना बंद करना चाहिए। सरकार को प्रदेश के विकास पर ध्यान देना चाहिए। सरकार को जनता के लिए राहत की घोषणा करनी चाहिए। जानकारी के लिए आपको बता दें प्रदेश सरकार पर मार्च 2023 की स्थिति में तीन लाख 31 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कर्ज है। अब तक सरकार पर कुल कर्ज का भार तीन लाख 64 हजार करोड़ रुपए से अधिक हो गया है। 

और पढ़ेंकम दिखाएँ

© Rashtiya Ekta! Design & Developed by CodersVision