April 13, 2024

139.91666666667 °C

RashtriyaEkta - 06-01-2024

इन 12 राज्यों में पहुंचा कोरोना का नया वैरिएंट, तेजी से बढ़ रहा आगे! जानिए कितना है खतरनाक

नई दिल्ली: इस वक्त ठंड और शीतलहर से उत्तर भारत की जनता बुरी तरह से परेशान है. दूसरी ओर बढ़ते कोविड केस और कोरोना के नए वैरिएंट जेएन-1 ने भी देश के 12 राज्यों में दस्तक दे ही है. कोविड के नए वैरिएंट के ज्यादातर केस पहले दक्षिण भारत के राज्यों में ही मिले थे. नए साल और वेकेशन के बाद लोगों की एक जगह से दूसरी जगह तक बड़े पैमाने पर आवाजाही हुई है. अब दिल्ली और हरियाणा तक इस वैरिएंट के केस पहुंच गए है. अच्छी बात ये है कि अब तक इसके कोई गंभीर लक्षण नहीं मिले हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन और हेल्थ एक्सपर्ट्स का भी कहना है कि नया वैरिएंट ज्यादा खतरनाक नहीं है और इसलिए अगर जरूरी सुरक्षा उपाय करते रहें तो इससे बच सकते हैं.

कोविड-19 के नए सब वैरिएंट जेएन-1 से संक्रमण के मामले 12 राज्यों में चार जनवरी तक बढ़कर 619 हो गए थे. उत्तर भारत में दिल्ली, राजस्थान और हरियाणा में भी कोविड जेएन-1 वैरिएंट के केस दर्ज किए गए हैं. दिल्ली में अब तक 15 केस दर्ज किए जा चुके हैं. नए वैरिएंट के सबसे ज्यादा केस कर्नाटक में दर्ज किया गया है. 199 मामले कर्नाटक में दर्ज किए गए। केरल में 148, महाराष्ट्र में 110, गोवा में 47, गुजरात में 30, आंध्र प्रदेश में 30, तमिलनाडु में 26 केस दर्ज किए गए हैं. 

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच महाराष्ट्र में कोविड टास्क फोर्स ने गाइडलाइन जारी कर दी है. अब राज्य में सांस संबंधी मरीजों की कोविड जांच अनिवार्य कर दी गई है. केरल और तमिलनाडु में पहले ही सामाजिक दूरी का ख्याल रखने और कोविड गाइडलाइंस का पालन करने का निर्देश दिया गया है. दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में कोरोना की जांच तेज कर दी गई है. स्वास्थ्य कल्याण मंत्रालय की ओर से अलर्ट रहने की ताकीद जारी की गई है. शुक्रवार को देश में 24 घंटे में 761 नए कोविड केस दर्ज किए गए.

फिलहाल हेल्थ एक्सपर्ट का कहना है कि कोविड के बढ़ते केस से घबराने की जरूरत नहीं है. मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने की नौबत नहीं आ रही है और जेएन.1 के भी ज्यादातर मरीजों में माइल्ड लक्षण ही हैं जो घर पर एहतियात बरतने से ठीक हो रहे हैं. इस वैरिएंट से पीड़ित मरीज तीन-चार दिनों में घर पर ही ठीक हो रहे हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि JN.1 और ओमिक्रॉन के XE वैरिएंट में लक्षण लगभग एक जैसे है..

और पढ़ेंकम दिखाएँ

© Rashtiya Ekta! Design & Developed by CodersVision