June 12, 2024

weather

144.21666666667 °C

RashtriyaEkta - 06-06-2024

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की करारी हार के बाद जीतू पटवारी देंगे इस्तीफा? जानिए क्यों शुरू हुई ये चर्चा

Jeetu Patwari: मध्य प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी ने 2023 के विधानसभा चुनाव में भी अच्छा प्रदर्शन किया था और अब 2024 के लोकसभा चुनाव में तो सभी 29 सीटें जीतकर इतिहास रच दिया है। भाजपा की इस ऐतिहासिक जीत से कांग्रेस पार्टी को तगड़ा झटका लगा है।जानकारी के लिए आपको बता दे कि, विधानसभा चुनाव में करारी हार मिलने के बाद कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ से मध्य प्रदेश की कमान छीन ली थी और जीतू पटवारी को नया प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया था। लेकिन लोकसभा चुनाव में जीतू पटवारी अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए और भाजपा ने सभी 29 सीटों पर अपना कब्जा जमा लिया।

पिछली बार छिंदवाड़ा ही एकमात्र ऐसी सीट थी जिसमें कांग्रेस ने जीत हासिल की थी। लेकिन इस बार कांग्रेस अपना गढ़ छिंदवाड़ा भी नहीं बचा पाई। भाजपा ने सभी सीटों पर अपना कब्जा जमा लिया। लोकसभा चुनाव में करारी हार मिलने के बाद जीतू पटवारी का भी बयान सामने आया था जिसमें उन्होंने हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर ली है। 

Also Read - MP की लाडली बहनों के लिए बड़ी खुशखबरी, इस दिन जारी होगी 13वीं किस्त, इस बार 1250 नहीं मिलेंगे इतने पैसे!

अब चर्चा होने लगी है कि जीतू पटवारी भी अपने पद से इस्तीफा दे सकते हैं और मध्य प्रदेश की कमान किसी अन्य व्यक्ति को मिल सकती है। हालांकि अभी तक कांग्रेस पार्टी या जीतू पटवारी की तरफ से कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है। लेकिन करारी हार के बाद कांग्रेस पार्टी को तगड़ा झटका लगा है।

Also Read - सोयाबीन की यह किस्म किसानों को कर देगी मालामाल! 1 एकड़ में होती है इतनी पैदावार

जीतू पटवारी के बिजलपुर स्थित गृह बूथ भाजपा बम्पर वोटों से जीती जबकि जीतू की टीम ने मेहनत भी की थी, लेकिन नोटा को महज 252 ही वोट मिले। राऊ विधानसभा का बूथ नंबर 88 उनका गृह बूथ है जिस पर भाजपा प्रत्याशी शंकर लालवानी को 624 तो बसपा के संजय सोलंकी को 7 वोट मिले। 

Also Read - Big Breaking: शिवराज सिंह चौहान बनेंगे भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष? 30 जून को खत्म हो रहा है JP नड्डा का कार्यकाल

बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता नरेंद्र सलूजा ने एक्स अकाउंट पर एक पोस्ट शेयर की. पोस्ट में उन्होंने सिलसिले वार ब्योरा दिया। नरेंद्र सलूजा ने लिखा, “प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड बनाते जीतू पटवारी जी! तीन विधायकों ने कांग्रेस छोड़ी, 22 हजार से अधिक नेताओं ने कांग्रेस छोड़ी। 5 लाख से अधिक कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस छोड़ी। खुद के गृह नगर इंदौर में कांग्रेस के प्रत्याशी ने कांग्रेस छोड़ी। मध्य प्रदेश लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का सूपड़ा साफ, खाता तक नहीं खुला। इंदौर में तीन लाख वोट कांग्रेस के गंवा दिये। नोटा का प्रचार किया, नोटा को वोट देने की अपील की। पिछली बार कांग्रेस को लोकसभा में 5 लाख 20 हजार वोट मिले थे, इस बार कांग्रेस समर्थित नोटा को मात्र 2 लाख 18 हजार ही मत मिले। फिर भी कह रहे हैं कि मेरी नैतिक जिम्मेदारी लेकिन इस्तीफा नहीं दे रहे हैं।”

और पढ़ेंकम दिखाएँ
//

© Rashtiya Ekta! Design & Developed by CodersVision